Sales मैनेजर क्या होता है और सेल्स Manager कैसे बने

हेलो दोस्तों मैं आज आपको इस आर्टिकल में कंपनी के सेल्स विभाग की जिम्मेदारी वाली post "सेल्स मैनेजर" के बारे में बताने जा रहा हूं आइये जाने Sales मैनेजर Kya Hota Hai और सेल्स मैनेजर कैसे बने।

सेल्स मैनेजर क्या होता है ?
Sales Manager Kaise Bane


सेल्स मैनेजर क्या होता है ?

सबसे पहले सेल्स मैनेजर की जिम्मेदारी होती है कंपनी के प्रोडक्ट्स की सेल्स को बढ़ाना और उसकी ग्रोथ को मैनेज करना ये वो इंसान होता है जो कंपनी के नए products और सेवाओं के बारे में ग्राहकों तक पहुंचाता है।

सेल्स मैनेजर कंपनी की सेल्स स्ट्रैटेजी यानी कि कंपनी अपने प्रोडक्ट्स और सेवाओं को कैसे बेचेगी इसके अलावा वो मार्केटिंग स्ट्रैटेजी भी तैयार करता है जिससे ग्राहकों तक पहुंचा जा सके।


Sales मैनेजर का क्या काम होता है ?

सेल्स मैनेजर एक ऐसा व्यक्ति होता है जो किसी कंपनी की बिक्री टीम का लीडरशिप करता है वह कंपनी के products या सर्विस को बेचने के लिए अपनी टीम को प्रेरित और trained करता है।

  • सेल्स टारगेट को निर्धारित करना और उनका पालन करना
  • सेल्स टीम के परफॉरमेंस का आकलन और मैनेजमेंट करना
  • नई sales तकनीकों और स्ट्रेटेजीज का विकास करना
  • ग्राहक संबंधों को विकसित और बनाए रखना
  • सेल्स डेटा एनालाइज करना 

ये थे सेल्स मैनेजर के कुछ मुख्य काम अगर आपको भी इस फील्ड में करियर बनाना है तो सेल्स मैनेजर बन सकते हैं।


सेल्स मैनेजर कैसे बने?

Sales मैनेजर बनने के लिए आपको योग्यता  अनुभव की जरुरत होती है 

सेल्स मैनेजर बनने के लिए योग्यता

ज्यादातर कंपनियां सेल्स जॉब के लिए ग्रैजुएट कैंडिडेट्स को प्राथमिकता देती हैं कुछ ऐसे कोर्स हैं जो सेल्स के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं जैसे मार्केटिंग, अकाउंटिंग, इकॉनॉमिक्स और फाइनेंस।

बैचलर डिग्री 4 साल में पूरी होती है इस दौरान आप एंट्री लेवल सेल्स जॉब्स के लिए जरूरी स्किल और ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं।

इस तरह सेल्स करियर शुरू करने से पहले ग्रैजुएशन और जॉब-रिलेवेंट कोर्स अहम होते हैं आप इन बातों को ध्यान में रखकर अपना सेल्स करियर शुरू कर सकते हैं।

सेल्स क्षेत्र में अनुभव प्राप्त करें

आप किसी कंपनी में सेल्स रिप्रेजेंटेटिव के रूप में काम शुरू कर सकते हैं इससे आपको सेल्स प्रोसेस और ग्राहक सेवा के बारे में ज्ञान प्राप्त होगा।

 सेल्स मैनेजर बनने के लिए कई साल का अनुभव चाहिए बैचलर्स करने के बाद आप एंट्री लेवल की सेल्स जॉब जैसे सेल्स रिप्रेजेंटेटिव या पर्चेसिंग एजेंट बन सकते हैं इन जॉब में आप सीखते हैं कि रोज़मर्रा का काम कैसे किया जाता है और टीम को लीड करना सीखते हैं।

शुरुआत में अनुभव प्राप्त करने से आप सेल्स की बारीकियों को समझ पाते हैं इससे आपके सेल्स करियर को आगे बढ़ने में मदद मिलती है।

इस तरह सेल्स में करियर शुरू करने के लिए एंट्री लेवल जॉब्स से होकर शुरू करें।


सेल्स मैनेजर को कहा - कहा पर जॉब मिल सकती है ?

फास्ट मूविंग कंस्यूमर गुड्स (FMCG) जैसे खाद्य पदार्थ, पेय पदार्थ, कपड़े, कॉस्मेटिक्स आदि।

फार्मास्यूटिकल और हेल्थकेयर, जहां सेल्स मैनेजर को डॉक्टरों, अस्पतालों, फार्मेसिस्ट्स और डिस्ट्रीब्यूटर्स को दवाओं और उपकरणों की बिक्री करनी होती है।

बैंकिंग, Finance और बीमा, जहां सेल्स मैनेजर को ग्राहकों को ऋण, निवेश, बचत, बीमा और अन्य वित्तीय सेवाओं की पेशकश करनी होती है।

आईटी और सॉफ्टवेयर, जहां सेल्स मैनेजर को व्यापारिक ग्राहकों को सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर, क्लाउड, सुरक्षा और अन्य आईटी समाधान बेचने होते हैं।

शिक्षा और प्रशिक्षण जहां सेल्स मैनेजर को विद्यार्थियों, अभिभावकों, शिक्षकों और शिक्षण संस्थानों को शैक्षणिक पाठ्यक्रम, पुस्तकें, ऑनलाइन लर्निंग, कोचिंग और अन्य शिक्षा संबंधी Products और सेवाओं की Sale करनी होती है।

इनके अलावा, सेल्स मैनेजर को टेलीकॉम, ऑटोमोबाइल, रियल एस्टेट, टूर और ट्रैवल, मीडिया और मनोरंजन, रिटेल और ई-कॉमर्स जैसे अन्य field में भी जॉब मिल सकती है।

सेल्स मैनेजर को जॉब मिलने के लिए उन्हें अपनी योग्यता, अनुभव, कौशल और रुचि के अनुसार अलग अलग कंपनियों और उद्योगों के लिए apply करना होगा वे ऑनलाइन जॉब पोर्टल्स, नेटवर्किंग, रेफरल, कैंपस प्लेसमेंट, वॉक-इन इंटरव्यू, फेयर और वर्कशॉप जैसे अलग अलग स्रोतों का उपयोग कर सकते हैं।


सेल्स मैनेजर की सैलरी कितनी होती है?

सेल्स मैनेजर की सैलरी कई कारकों पर depend करती है जिसमें कंपनी का आकार, उद्योग, स्थान, और सेल्स मैनेजर का अनुभव और skill शामिल हैं

भारत में सेल्स मैनेजर की औसत सैलरी ₹20 से 25 लाख प्रति वर्ष होती है हालांकि यह राशि company और सेल्स मैनेजर के एक्सपीरियंस के आधार पर ₹10 लाख से लेकर ₹40 लाख तक हो सकती है।


उदाहरण के लिए एक FMCG कंपनी में एक अनुभवी सेल्स मैनेजर की सैलरी ₹30 लाख प्रति वर्ष तक हो सकती है वहीं एक स्टार्टअप में एक नए सेल्स मैनेजर की सैलरी ₹15 लाख प्रति वर्ष तक हो सकती है।


सेल्स मैनेजर की सैलरी में अक्सर इनसेंटिव्स भी शामिल होते हैं जो सेल्स लक्ष्यों को पूरा करने पर दिए जाते हैं। इनसेंटिव्स की राशि सैलरी के आधार पर अलग अगल हो सकती है।

कुल मिलाकर सेल्स मैनेजर एक अच्छी तरह से भुगतान वाली job है एक्सपीरियंस और skill के साथ सेल्स मैनेजर ₹30 लाख प्रति वर्ष से अधिक की सैलरी कमा सकते हैं।


निष्कर्ष

यह थी Sales मैनेजर के बारे में जानकारी मैने इस आर्टिकल में आपको Sales Manager Kaise Bane इसके बारे में जानकारी दी और सेल्स मैनेजर की सैलरी के बारे में बताया मुझे उम्मीद है आपको इस जानकारी से help मिली होगी अगर आपको इससे संबंधित और जानकारी चाहिए तो आप मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

Post a Comment

0 Comments