Custom Officer क्या होता है और कस्टम ऑफिसर कैसे बने [सैलरी आयु सीमा]

अगर आपके अंदर भी देश सेवा का जज्बा है तो यह आप कस्टम ऑफिसर बनकर भी कर सकते है इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा कि Custom Officer क्या होता है और कस्टम ऑफिसर कैसे बने और जानेंगे कि कस्टम ऑफिसर की सैलरी, कस्टम ऑफिसर बनने के लिए आयु सीमा इस सब की जानकारी के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें

ताकि आप कस्टम ऑफिसर बनकर देश सेवा का अवशर प्राप्त कर सके। 

कस्टम इंस्पेक्टर क्या होता है
कस्टम विभाग में नौकरी


Custom Officer Kya Hota Hai ?

कस्टम ऑफिसर देश की सीमा पर लगे कस्टम विभाग में काम करता है जब कोई व्यक्ति या वस्तु देश की सीमा पार करती है तो कस्टम ऑफिसर उस पर नजर रखता है।

वो देखता है कि कोई अवैध वस्तु या निषिद्ध वस्तु लाया जा रहा है या नहीं अगर कोई वस्तु पर कस्टम शुल्क लगता है तो वो उस पर कस्टम ड्यूटी वसूलता है। 

साथ ही वो देखता है कि कोई खतरनाक या गैरकानूनी वस्तु देश में ना घुसे इस तरह कस्टम ऑफिसर देश की सुरक्षा और कानूनों का पालन करवाता है।

Custom Officer कैसे बने ?

अगर आप कस्टम ऑफिसर बनना चाहते है तो सबसे पहले आपको UPSC की सिविल सर्विसेज परीक्षा पास करनी होती है इसमें सेलेक्शन होने के बाद आप IRS (इनकम टैक्स) में जॉइन कर सकते हैं

ये परीक्षाएं भारत सरकार आयोजित करती है UPSC की इस परीक्षा में सेलेक्शन होने पर आप IAS, IFS और IPS जॉइन भी कर सकते हैं।

ये परीक्षा बहुत ही मुश्किल होती है कस्टम अधिकारी बनने के लिए भी इसी परीक्षा को पास करना पड़ता है इस तरह से आप कस्टम विभाग में ऑफिसर बन सकते हैं।


कस्टम ऑफिसर बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए ?

आपको भारतीय नागरिक होना चाहिए

आपको किसी स्ट्रीम से 12वी पास होना चाहिए  

आपको किसी भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएट पास होना चाहिए 55% मार्क्स के साथ

आपको इंटरनेट कंप्यूटर की बेसिक जानकारी होनी चाहिए 

आपका अच्छा करैक्टर होना चाहिए यानि आपके ऊपर कोई क्रिमिनल केस नहीं होना चाहिए 

आपके पास ड्राइविंग लाइसेंस होना जरुरी है 

आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए


कस्टम ऑफिसर बनने के लिए आयु सीमा कितनी होनी चाहिए ?

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए आपकी आयु सीमा 21 साल से 28 साल के बीच होनी चाहिए अन्य पिछड़ा वर्ग और SC/ST कैटेगिरी के लिए आयु सीमा में छूट दी जाती है


कस्टम ऑफिसर बनने के लिए सिलेक्शन प्रोसेस 

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए सिलेक्शन प्रोसेस UPSC सिविल सर्विस परीक्षा के दुवारा किया जाता है यह परीक्षा तीन स्टेप्स में होती है 

  1. सिविल सेवा योग्यता परीक्षा 
  2. सिविल सेवा मुख्य (Main) परीक्षा
  3. पर्सनल इंटरव्यू 

सिविल सेवा योग्यता परीक्षा 

यह सिविल सर्विसेज की पहली चरण की परीक्षा होती है इसमें दो पेपर होते हैं हर पेपर में 200 सवाल होते हैं सभी सवाल ऑब्जेक्टिव टाइप के होते हैं।

इसमें देश-विदेश की घटनाओं, भारत का इतिहास, जनरल नॉलेज, भूगोल, अर्थव्यवस्था, समाज व विकास, रीजनिंग, गणित और अंग्रेजी के सवाल पूछे जाते हैं यानि इस परीक्षा में सामान्य ज्ञान और विभिन्न विषयों से 200-200 सवाल पूछे जाते हैं।

सिविल सेवा मुख्य (Main) परीक्षा

सिविल सर्विस की योग्यता परीक्षा पास करने के बाद सिविल सर्विस की मुख्य परीक्षा के लिए अप्लाई करना होता है इस मुख्य परीक्षा में 9 पेपर होते हैं सभी प्रश्नों के जवाब लिखने के लिए समय दिया जाता है यानि योग्यता परीक्षा पास करने के बाद मुख्य परीक्षा के लिए अप्लाई करना पड़ता है जिसमें 9 विषयों से प्रश्न पूछे जाते हैं।

पर्सनल इंटरव्यू

सिविल सर्विस मेंस एग्जाम पास करने वाले अभ्यर्थियों को पर्सनालिटी टेस्ट के लिए बुलाया जाता है इसमें अधिकारी कुछ सवाल करते हैं उनके सही जवाब देना होता है इससे आपकी योग्यता की जांच होती है। जो अभ्यर्थी पर्सनल इंटरव्यू परीक्षा में पास होते हैं उनमें से कस्टम ऑफिसर की नौकरी के लिए सिलेक्शन किया जाता है।


कस्टम ऑफिसर के लिए फिजिकल फिटनेस टेस्ट कैसे होता है 

दोस्तों कस्टम ऑफिसर बनने के लिए फिजिकल फिटनेस टेस्ट में पास होना भी बहुत जरुरी है कस्टम ऑफिसर फिजिकल फिटनेस टेस्ट में पास होने के लिए आपकी लम्बाई 158 सेंटीमीटर होनी जरुरी है और छाती 81 सेंटीमीटर होनी चाहिए 

अन्य पिछड़ा वर्ग और SC/ST कैटेगिरी के उमीदवारों को इसमें सरकार के नियमों अनुसार छूट दी जाती है


Custom Officer की सैलरी कितनी होती है ?

कस्टम ऑफिसर की नौकरी में सेलेक्ट होने वाले उम्मीदवारों को महीने का वेतन 44900 से 142400 रुपये तक मिलता है।

ये वेतन पोस्टिंग के अनुसार अलग-अलग हो सकता है जैसे कि कोई अधिकारी छोटी जगह पर तैनात होगा तो उसे कम वेतन मिलेगा और कोई बड़ी जगह पर तैनात होगा तो उसे ज्यादा वेतन मिलेगा।


कस्टम ऑफिसर का काम क्या होता है 

देश में आने वाली विदेशी चीजों पर कस्टम ड्यूटी लगाना 

हवाई अड्डे, बंदरगाह आदि पर आने वाली वस्तुओं की जाँच करना

नकली या तस्करी की गई वस्तुओं की पहचान करना 

कस्टम नियमों का पालन करवाना

कस्टम ड्यूटी का निर्धारण और उसकी वसूली करना

कस्टम विभाग से जुड़े कामकाज को संभालना


कस्टम ऑफिसर बनने के लिए अप्लाई कैसे करे ?

इसके लिए आपको सिविल सर्विस एग्जाम के लिए अप्लाई करना होगा 

कस्टम ऑफिसर की भर्ती UPSC सिविल सर्विस एग्जाम के माध्यम होती है 

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए आपको तब अप्लाई करना होगा जब संघ लोक सेवा आयोग दुवारा नोटिफिकेशन जारी किया जाता है 

इसके बाद आपको कस्टम ऑफिसर सिलेक्शन प्रोसेस में भाग लेकर एग्जाम और इंटरव्यू पास करने होते है फिर इसके बाद आपको कस्टम ऑफिसर की पोस्ट पर नियुक्त किया जाता है


कस्टम इंस्पेक्टर का प्रमोशन कैसे होता है ?

कस्टम इंस्पेक्टर को सरकारी नौकरी में नियमित रूप से बढ़ोतरी दी जाती है कुछ साल काम करने के बाद वो सीनियर इंस्पेक्टर बन सकता है। 

फिर कुछ साल बाद वह एसी इंस्पेक्टर का पद पा सकता है इसके लिए उसके काम की गुणवत्ता और सराहनीय सेवा की जांच होती है।

सबसे ऊपर का पद सुपरिटेंडेंट होता है जिसे सिर्फ एक्सीलेंट काम करने वाले अधिकारी ही पा सकते हैं। 

इस तरह कस्टम विभाग में लंबे समय तक काम करने और अच्छा प्रदर्शन करने पर कस्टम इंस्पेक्टर को प्रमोशन मिलता है।


निष्कर्ष। 

दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से मैंने आपको कस्टम ऑफिसर क्या होता है और कस्टम विभाग में नौकरी कैसे प्राप्त करे इसके बारे में पूरी जानकारी दी अगर आपको इससे सम्बंधित और जानकारी चाहिए तो मुझे कमेंट करके जरूर बताए।


यह भी पढ़ें  - प्राइवेट बैंक में जॉब कैसे पाए 

Post a Comment

0 Comments