Bio सब्जेक्ट्स और बायो सब्जेक्ट लेने के क्या फायदे है

आज हम बात करेंगे Bio (जीव विज्ञान) में कितने सब्जेक्ट्स होते है और बायो सब्जेक्ट लेने के फायदों के बारे में।

Bio के सब्जेक्ट्स बहुत ही इम्पोर्टेन्ट होते हैं क्योंकि हमारा शरीर और पर्यावरण में जो भी होता है उससे जुड़ा होता है। बायो में हम अपने आप को अन्य जीवों और प्रकृति के बारे में सीखते हैं।

आइये जानते है बायो सब्जेक्ट्स के बारे में पूरी जानकारी 

बायो सब्जेक्ट लेने के फायदे ?
बायो सब्जेक्ट


 Bio Me Kitne Subject Hote Hai

आजकल सभी कुछ न कुछ करके अपने करियर में सफल होना चाहते हैं और सफलता की सीढ़ियां चढ़ने के लिए कुछ फैसले लेने पड़ते हैं इनमें से एक बड़ा फैसला ये भी है कि 10वीं के बाद कौन सी स्ट्रीम और कौन-से सब्जेक्ट चुनें जिससे हम अपने करियर में वह बन सके जो हम बनना चाहते है 

ये फैसला भविष्य के करियर के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि अगर सही स्ट्रीम और सब्जेक्ट चुनेंगे तो आगे की पढ़ाई आसान होगी और अच्छा करियर बना सकेंगे

इसलिए इस फैसले को ध्यान से लेना बहुत जरूरी है।

मुख्य रूप से बायोलॉजी में दो सब्जेक्ट होते है 

  1. जंतु विज्ञान (Zoology)
  2. वनस्पति विज्ञान (Botany)

इसके बाद इन सब्जेक्ट को डिटेल्स में पढ़ाया जाता है जिससे इनके अंदर और भी सब्जेक्ट शामिल हो जाते है जैसे कि:

  • बायोकेमिस्ट्री
  • बायोग्राफी
  • बायोइंजीनियरिंग
  • बायोटेक्नोलॉजी
  • एनाटॉमी

अगर आप 10वी पास करने के बाद 11वी और 12वी क्लास में बायोलॉजी सब्जेक्ट से पढाई करते है तो इसमें आपको 5 सब्जेक्ट की पढाई करनी होगी 

  1. जीव विज्ञान (Biology)
  2. हिंदी (Hindi)
  3. भौतिक विज्ञान (Physics)
  4. अंग्रेजी (English)
  5. रसायन विज्ञान (Chemistry)

बायो सब्जेक्ट लेने के फायदे ?

दोस्तों बायो सब्जेक्ट लेने के कई फायदे होते है बायोलॉजी से पढाई करके आप अपने करियर में सफल हो सकते है और बायोलॉजी से सम्बंधित फील्ड में अपना करियर बना सकते है 

BSc

BSc यानि बैचलर ऑफ साइंस डिग्री है BSc करने के बाद साइंस से जुड़े कई करियर ऑप्शन मिलते हैं BSc करने वाले छात्र डॉक्टर, इंजीनियर, रिसर्चर आदि बन सकते हैं।

BSc के लिए आपको 10+2 के बाद 3 साल की डिग्री कोर्स करना होता है इसमें फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ, बायोलॉजी जैसे साइंस सब्जेक्ट्स होते हैं।

BSc करने से आपको साइंस के बारे में गहरी समझ व तकनीकी स्किल्स हासिल होती हैं इसलिए ये डिग्री भविष्य में साइंस आधारित करियर के लिए बहुत फायदेमंद साबित होती है।

B. Pharma

B.Pharma यानि बैचलर ऑफ फार्मेसी डिग्री है B.Pharma कोर्स करने के बाद आप फार्मेसिस्ट यानि दवाओं के विशेषज्ञ बन सकते हैं।

B.Pharma के लिए 10+2 के बाद 5 साल का डिग्री कोर्स होता है इसमें दवाओं के बनाने, प्रभाव, बाजार में लाने आदि के बारे में पढ़ाया जाता है।

B.Pharma करने से आप दवाओं की दुनिया में काम करने के लिए तैयार हो जाते हैं आप अस्पतालों में फार्मेसिस्ट, दवा कंपनियों में काम कर सकते हैं।

इस डिग्री से न केवल भारत बल्कि विदेशों में भी अच्छी नौकरियाँ मिलती हैं इसलिए B.Pharma एक बहुत ही उपयोगी डिग्री है।

B.Sc. Nursing

B.Sc Nursing - Bachelor of Science in Microbiology 10+2 के बाद 4 साल का कोर्स होता है इसमें नर्सिंग की अलग - अलग शाखाओं जैसे मेडिकल, सर्जिकल, ऑब्सेट्रिक आदि के बारे में पढ़ाया जाता है

B.Sc Nursing करने वाले छात्र-छात्राएं अस्पतालों में नर्स के रूप में काम कर सकते हैं वे मरीजों की देखभाल, उपचार और सलाह दे सकते हैं।

इस डिग्री से न केवल भारत बल्कि विदेशों में भी अच्छी सैलरी वाली नौकरियाँ मिलती हैं यह करियर महिलाओं के लिए विशेष रूप से उपयुक्त है क्योंकि यह सेवा और सहानुभूति पर केंद्रित है।

MBBS

अगर आप बायोलॉजी सब्जेक्ट पढ़कर डॉक्टर बनना चाहते है तो MBBS एक बहुत ही इम्पोर्टेन्ट डॉक्टरी डिग्री है MBBS के लिए 10+2 के बाद 5.5 साल का कोर्स होता है इसमें मेडिसीन के सभी पहलुओं जैसे इंटरनल मेडिसिन, पीडियाट्रिक्स, जरूरत के हिसाब से ऑपरेशन आदि के बारे में पढ़ाया जाता है।

MBBS करने वाले डॉक्टर बनकर अस्पतालों में काम कर सकते हैं वे मरीजों का इलाज करने और उनकी सेहत की देखभाल कर सकते हैं।

यह डिग्री भारत और विदेश दोनों जगह अच्छी सैलरी वाली नौकरियाँ दिलाती है यह करियर इंसानियत सेवा में अपना योगदान देने का अच्छा मौका भी प्रदान करता है।

BHMS

BHMS होम्योपैथी चिकित्सा की एक महत्वपूर्ण डिग्री है BHMS के लिए 10+2 के बाद 5 साल का कोर्स होता है। इस दौरान होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति के सिद्धांतों और उनके अनुसार रोगों के इलाज पर जोर दिया जाता है।

BHMS पास डॉक्टर अपनी क्लिनिक खोल सकते हैं या अस्पतालों में होम्योपैथी विभाग में काम कर सकते हैं वे प्राकृतिक और सुरक्षित उपचार के माध्यम से मरीजों का इलाज करते हैं।

यह डिग्री भारत में होम्योपैथी चिकित्सा के क्षेत्र में अच्छा करियर बनाने का अवसर प्रदान करती है यह विकल्पी चिकित्सा पद्धति में योगदान देने का अच्छा मौका भी है।

बायो सब्जेक्ट लेने के अन्य फायदे ?

  • हमारे शरीर और जीव-जंतुओं की कार्य-प्रणाली को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलती है।
  • जीवन विज्ञान और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में करियर बनाने के लिए नींव मजबूत होती है। 
  • शरीर के रोगों और उनके इलाज से रूबरू होने से स्वास्थ्य बनाए रखने में सहायता मिलती है।
  • पर्यावरण और प्राकृतिक संसाधनों से संबंधित मुद्दों पर चर्चा में भाग लेने की क्षमता विकसित होती है।

FAQs - अक्सर पूछे जाने वाले सवाल।


11वीं बायो में कितने सब्जेक्ट होते हैं ?


11वीं कक्षा में अगर आप बायोलॉजी ग्रुप में जाते हैं तो आपको कुल 5 सब्जेक्ट पढ़ने पड़ते हैं PCB यानि फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के अलावा, दो और सब्जेक्ट होते हैं - हिंदी और अंग्रेजी।

क्या बायो एक अच्छा सब्जेक्ट है?

बायोलॉजी में हम जीव-जंतुओं और प्राणियों के बारे में सीखते हैं हमारा शरीर, दिमाग और स्वास्थ्य कैसे काम करता है इसका ज्ञान बायो में मिलता है।

इस सब्जेक्ट से हमें जीवन विज्ञान के क्षेत्र में करियर बनाने में भी मदद मिलती है डॉक्टर, रिसर्चर या फिर फार्मा कंपनी में काम कर सकते हैं।

दोस्तों मेरा मानना है कि बायोलॉजी एक बहुत ही इम्पोर्टेन्ट और रोमांचक सब्जेक्ट है अगर आप इसे अच्छी तरह से समझें तो भविष्य में बहुत काम आ सकता है।

निष्कर्ष। 

दोस्तों अब आप जान ही गए होंगे कि बायोलॉजी में कितने सब्जेक्ट होते है मैंने इसके बारे में आपको पूरी जानकारी देने की कोशिश की है अगर आपको इससे संबधित अन्य जानकारी चाहिए तो मुझे कमेंट करके जरूर बताए। 

Post a Comment

0 Comments