Civil Engineer क्या होता है और सिविल इंजीनियरिंग कोर्स कितने साल का होता है

दोस्तों सिविल इंजीनियरिंग एक इंजीनियरिंग की फील्ड में बहुत ही इम्पोर्टेन्ट कोर्स है इस कोर्स में हम इमारतें, सड़कें, पुल आदि बनाते हैं जो हमारी आवश्यकताओं को पूरा करते हैं इस आर्टिकल में मैं आपको बताउगा सिविल इंजीनियरिंग कोर्स क्या है और सिविल इंजीनियरिंग कोर्स कितने साल का होता है

10 वीं के बाद सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
सिविल इंजीनियर का क्या काम होता है


Civil इंजीनियरिंग कोर्स कितने साल का होता है ?

सिविल इंजीनियरिंग कोर्स की अवधि भारत में 4 साल की होती है अगर आप सिविल इंजीनियरिंग डिप्लोमा करते हैं तो यह 3 साल का होता है और अगर आप B Tech in Civil Engineering करते है तो यह 4 साल में कम्पलीट होगा 

दोस्तों अगर आप सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक के बाद एमटेक भी करना चाहते हैं तो आपके पास एक और अच्छा ऑप्शन है ये है इंटीग्रेटेड सिविल इंजीनियरिंग कोर्स

इंटीग्रेटेड कोर्स में आपको बीटेक और एमटेक दोनों डिग्रियाँ एक साथ 5 साल में मिल जाती हैं इसमें पहले 3 साल तक आप बीटेक की पढ़ाई करते हैं और अंतिम 2 साल एमटेक की पढ़ाई होती है 

ये कोर्स बहुत ही तेजी से पॉपुलर हो रहा है क्योंकि इससे आपका समय बचता है और दोनों डिग्रियाँ एक साथ मिल जाती हैं

यह कोर्स इंजीनियरिंग की डिग्री के साथ-साथ एक प्रोफेशनल डिग्री भी प्रदान करता है 

कोर्स की शुरुआत में हम गणित, फिजिक्स, केमिस्ट्री जैसी बेसिक सब्जेक्ट की स्टडी करते हैं बाद में हम सिविल इंजीनियरिंग से संबंधित सब्जेक्ट जैसे कि संरचनात्मक डिजाइन, ट्रांसपोर्टेशन इंजीनियरिंग, एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग, जल संसाधन इंजीनियरिंग आदि की स्टडी करते हैं

इस प्रकार 4 साल के इस कोर्स के बाद हम सिविल इंजीनियर बन जाते हैं


10 वीं के बाद सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा

10वीं के बाद अगर आप सिविल इंजीनियरिंग का कोर्स करना चाहते हैं तो आपके पास एक अच्छा ऑप्शन है डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग इसके लिए आप 10वी पास करने के बाद मान्यता प्राप्त पॉलिटेक्निक कॉलेज से Civil Engineering Diploma कर सकते है  

इस कोर्स में आपको 3 साल की पढ़ाई करनी होती है 10वीं के बाद आप इस कोर्स को कर सकते हैं डिप्लोमा कोर्स में आप सिविल इंजीनियरिंग के बेसिक कॉन्सेप्ट्स और टेक्निकल स्किल्स सीखेंगे।

इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप  जूनियर लेवल पर सिविल इंजीनियरिंग फील्ड में नौकरी पा सकते हैं साथ ही बाद में आप बीटेक भी कर सकते हैं


सिविल इंजीनियरिंग कोर्स की फीस कितनी होती है ?

दोस्तों सिविल इंजीनियरिंग कोर्स की फीस आपके कॉलेज, कोर्स और स्थान पर डिपेंड करती है 

  • आमतौर पर सिविल इंजीनियरिंग की डिप्लोमा कोर्स की फीस इस तरह है
  • गवर्नमेंट कॉलेज में फीस सालाना 20,000 से 30,000 रुपये के बीच होती है
  • प्राइवेट कॉलेज में फीस थोड़ी ज्यादा होती है यहाँ फीस 40,000 से 60,000 रुपये सालाना है
  • कुछ टॉप रैंकिंग वाले प्राइवेट कॉलेज में 1 लाख रुपये तक की फीस भी लगती है
  • इसके अलावा थोड़ा सा चार्ज लाइब्रेरी आदि के लिए अलग से देना पड़ता है
  • इसलिए अपने बजट के हिसाब से गवर्नमेंट या अच्छे प्राइवेट कॉलेज का चुनाव करें फीस के बारे में आप कॉलेज से पूछ जानकारी ले सकते है या कॉलेज की ऑफिसियल वेबसाइट पर देख सकते है।


पॉलिटेक्निक सिविल इंजीनियरिंग को कितनी सैलरी मिल सकती है ?

पॉलिटेक्निक सिविल इंजीनियरिंग एक डिप्लोमा कोर्स है जिसे करने के बाद आप कंस्ट्रक्शन क्षेत्र में काम कर सकते हैं

आपको बड़े-बड़े प्रोजेक्ट्स, बिल्डिंग्स, रोड्स, ब्रिजेज आदि का डिजाइन, निर्माण और रख-रखाव का काम करना होता है

इस काम के लिए आपको सैलरी मिलती है जो कि आपके काम और पोस्ट लेवल के अनुसार बदलती रहती है।

प्राइवेट सेक्टर में एक पॉलिटेक्निक सिविल इंजीनियर की शुरुआती सैलरी 25,000 से 35,000 रुपए प्रति महीने तक हो सकती है

जब आपका एक्सपीरियंस 3 से 4 साल या उससे ज्यादा हो जाता है तो आपकी सैलरी 1 लाख रुपए प्रति महीने तक भी पहुंच सकती है।

सरकारी सेक्टर में एक पॉलिटेक्निक सिविल इंजीनियर की शुरुआती सैलरी 30,000 से 35,000 रुपए प्रति महीने तक हो सकती है। जब आपका एक्सपीरियंस कुछ साल हो जाता है तो आपकी सैलरी 1 लाख रुपए प्रति महीने से ज्यादा भी हो सकती है

इस तरह आप देख सकते हैं कि एक पॉलिटेक्निक सिविल इंजीनियरिंग को कितनी सैलरी मिल सकती है यह आपके काम, अनुभव, सेक्टर और कंपनी के अनुसार अलग-अलग हो सकती है

टिप्स: आपको अपने काम को अच्छी तरह से करना चाहिए और अपने स्किल्स को बढ़ाना चाहिए ताकि आपको ज्यादा सैलरी मिल सके।


निष्कर्ष। 

दोस्तों इस आर्टिकल में मैंने आपको सिविल इंजीनियरिंग कोर्स के बारे में जानकारी दी और आपको सिविल इंजीनियरिंग कोर्स की सैलरी, फीस, और योग्यता के बारे में बताया उम्मीद करता हूँ आपके लिए यह जानकारी उपयोगी रहेगी 

अगर आपको इससे संबंधित अन्य जानकारी चाहिए तो मुझे कमेंट करके जरूर बताए।

Post a Comment

0 Comments