एम्स हॉस्पिटल सरकारी है या प्राइवेट जानिए : पूरे भारत में कितने एम्स है

एम्स हॉस्पिटल का नाम सुनते ही आपको क्या ख्याल आता है? शायद आप सोचते होंगे कि यह एक बहुत ही अच्छा और प्रतिष्ठित मेडिकल इंस्टिट्यूट है जहाँ आपको हाई लेवल की मेडिकल सुविधाएं और इलाज मिलता हैं  यह बिल्कुल सही है लेकिन क्या आप जानते हैं कि एम्स हॉस्पिटल सरकारी है या प्राइवेट? और पूरे भारत में कितने एम्स हैं? अगर नहीं, तो इस आर्टिकल को पढ़कर आपको इन सवालों के जवाब मिल जाएंगे।

एम्स में पढाई कैसे करे ?
एम्स हॉस्पिटल कहां कहां है


एम्स हॉस्पिटल सरकारी है या प्राइवेट?

एम्स हॉस्पिटल का पूरा नाम अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान - All India Institute Of Medical Science (AIIMS) है। यह भारत के पब्लिक आयुर्विज्ञान कॉलेजेस का ग्रुप है, जो केंद्र सरकार द्वारा संचालित और फंडेड  होते हैं इसका मतलब यह है कि एम्स हॉस्पिटल सरकारी है न कि प्राइवेट।

एम्स हॉस्पिटल का उद्देश्य भारत में मेडिकल एजुकेशन के उच्च मानक प्रदर्शित करना चिकित्सा और पैरामेडिकल कोर्स में छात्रों को ट्रेनिंग देना, रिसर्च करना और इनोवेशन को बढ़ावा देना और रोगियों को व्यापक और सुगम्य स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना है।


पूरे भारत में कितने एम्स है?

भारत में पहला एम्स हॉस्पिटल 1956 में नई दिल्ली में शुरू हुआ था इसके बाद भारत सरकार ने देश के अलग - अलग  हिस्सों में और भी एम्स संस्थानों की स्थापना की ताकि दूरदराज के लोगों को भी बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मिल सकें

आज के समय में भारत में कुल 19 एम्स हैं जिनमें से 15 अभी काम कर रहे हैं और 4 अभी बन रहे हैं। इनमें से 7 एम्स नई दिल्ली, जोधपुर, भोपाल, ऋषिकेश, भुवनेश्वर, पटना और रायपुर में 2012 से पहले ही शुरू हो चुके हैं

 जबकि बाकी 8 एम्स रायबरेली, गोरखपुर, नागपुर, कल्याणी, मंगलगिरी, बिलासपुर, देहरादून और बठिंडा में 2019 से शुरू हुए हैं

इसके अलावा सरकार ने और 5 एम्स संस्थानों की घोषणा की है जो दार्जिलिंग, चंडीगढ़, दरभंगा, गुवाहाटी और मदुरै में बनाए जाएंगे इनका निर्माण 2025 तक पूरा होने की उम्मीद है।

यह भी देखें - अपना Hospital कैसे खोले 


एम्स में पढाई कैसे करे ?

एम्स हॉस्पिटल में एडमिशन पाना आसान नहीं है क्योंकि इसके लिए आपको राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (NEET) में अच्छे अंक प्राप्त करने होंगे। NEET एक वार्षिक परीक्षा है, जो मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) द्वारा आयोजित की जाती है

इस परीक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के प्रश्न पूछे जाते है NEET में पास होने के बाद आपको एम्स के लिए अप्लाई करना होगा

एम्स अपना अलग से प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है जिसमें आपको अपनी योग्यता और रुचि के अनुसार अलग - अलग कोर्स के लिए अप्लाई करना होगा 

एम्स प्रवेश परीक्षा में आपको 200 मल्टीप्ल चॉइस प्रश्नों का जवाब देना होगा जो फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, जनरल नॉलेज और लॉजिकल रीजनिंग से संबंधित होंगे

इस परीक्षा में आपको 3 घंटे 30 मिनट का समय मिलेगा।

एम्स प्रवेश परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए आपको अपनी तैयारी को गंभीरता से लेना होगा आपको नीचे दिए गए कुछ टिप्स को फॉलो करना चाहिए:

  • अपने सिलेबस को अच्छी तरह से समझें और उसके अनुसार अपना समय निर्धारित करें।
  • पिछले साल के प्रश्न पत्रों को हल करें और अपनी कमजोरियों को पहचानें।
  • अपने बेसिक कॉन्सेप्ट्स को मजबूत करें और नए फॉर्मूले और शार्टकट्स को याद रखें।
  • नियमित रूप से अपनी योग्यता का टेस्ट ले और अपनी गलतियों से सीखें।
  • अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और तनाव से दूर रहें।
  • परीक्षा के दिन अपना आत्मविश्वास बनाए रखें और शांत रहें।

एम्स हॉस्पिटल में एडमिशन पाना एक गौरव की बात है जो आपको एक बेस्ट डॉक्टर बनने का अवसर देता है अगर आप इस लक्ष्य को हासिल करना चाहते हैं, तो आपको अपनी मेहनत और लगन से कोई समझौता नहीं करना चाहिए मैं आपको अपने सपने को साकार करने के लिए शुभकामनाएं देता हूँ।


निष्कर्ष। 

दोस्तों इस आर्टिकल में मैंने आपको बताया कि एम्स हॉस्पिटल सरकारी है या प्राइवेट और भारत में कितने AIIMS है इसके बारे में जानकरी दी और आपको AIIMS में पढाई के बारे में भी जानकरी दी अगर इससे सम्बंधित आपके मन में कोई सवाल है तो मुझे कमेंट करके जरूर बताए।

Post a Comment

0 Comments