Bsc के बाद करियर ऑप्शन जानिए बीएससी के बाद कौनसा कोर्स करे

बीएससी करने के बाद सबसे पहले छात्रों के मन में यह सवाल आता है कि अब आगे B.sc के बाद क्या करे BSC के बाद जॉब ऑप्शन कौन कौनसे हैं और B.sc के बाद कौनसा Course करे दोस्तों बीएससी के बाद छात्रों के पास कई ऑप्शन होते है आप चाहे तो आगे पढाई भी कर सकते हैं या फिर नौकरी भी कर सकते है। 

चलिए जानते है B.sc के बाद क्या करे जिससे बी.एससी के बाद आप अपने करियर में आगे बढ़ सके और सफल हो सके।

Table of Contents (toc)

बीएससी क्या है ?

bsc ke baad job option


बीएससी (बैचलर ऑफ साइंस) एक अंडरग्रेजुएट डिग्री है जो छात्रों को विज्ञान के अलग - अलग क्षेत्रों में शिक्षा प्रदान करती है यह डिग्री कई विषयों में उपलब्ध है, जैसे फिजिक्स,केमिस्ट्री, बायोलॉजी, गणित, कंप्यूटर साइंस आदि। बीएससी पूरी करने के बाद, छात्रों के पास कई करियर ऑप्शन उपलब्ध होते हैं।

B.sc के बाद कौनसा कोर्स करे ?

बी.एससी कम्पलीट करने के बाद छात्रों के पास एक नहीं कई कोर्स के ऑप्शन होते है बी.एससी करने के बाद स्टूडेंट्स कंप्यूटर, टीचिंग, रिसर्च, बैंकिंग आदि फील्ड में अपना करियर बना सकते है  जिसकी जानकारी आप निचे पढ़ सकते है।

MSC (Master of Science)

B.sc  के बाद आप MSC (Master of Science) कर सकते है आपको बता दें कि यह एक पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री है जो साइंस विषयों में दी जाती है।

यह 2 साल का कोर्स होता है और यह एक पोस्टग्रेजुएट डिग्री होती है जो अलग - अलग विषयों में पढ़ाई करने के लिए होती है, जैसे कि साइंस, मेडिसिन, इंजीनियरिंग, केमिस्ट्री, गणित, फिजिक्स, बायोलॉजी आदि।

MSc कोर्स में सैद्धांतिक (थ्योरी) नॉलेज के साथ-साथ प्रैक्टिकल ज्ञान भी दिया जाता है।

MSc करने के बाद, आपके पास करियर की कई संभावनाएं होती हैं।

MSC करने  के बाद आप साइंस की फीड में रिसर्च कर सकते है या फिर नेशनल जॉब ओरिएंटेड कोर्स कर सकते है।

MCA (Master in Computer Application)

एमसीए यानि मास्टर ऑफ कंप्यूटर अप्लिकेशन एक पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री है जो कंप्यूटर साइंस और इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में ज्ञान प्रदान करती है।

MCA कोर्स 2 से 3 साल का होता है यह एक पोस्टग्रेजुएट कोर्स होता है जो कंप्यूटर एप्लिकेशन डेवलपमेंट के वर्ल्ड में गहराई से जानने के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए होता है।

इस कोर्स में स्टूडेंट्स को सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, वेब डिजाइनिंग, डेटाबेस, ऑपरेटिंग सिस्टम आदि के बारे में पढ़ाया जाता है।

एमसीए को पूरा करने के बाद स्टूडेंट्स कंप्यूटर साइंस और आईटी फील्ड में जॉब कर सकते हैं या अपना बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं।

MBA (Master in Business Administration)

एमबीए का पूरा नाम मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन होता है यह एक पोस्टग्रेजुएट कोर्स होता है जो कई विषयों में पढ़ाई करने के लिए होता है, जैसे कि बिजनेस, मैनेजमेंट, मार्केटिंग, अकाउंटिंग, इकोनॉमिक, आदि।

MBA कोर्स से स्टूडेंट्स को रिसोर्स मैनेजमेंट, रिसोर्स प्रोजेक्ट्स के लिए मल्टीपल कम्प्यूटर एप्लिकेशन, मार्केटिंग स्किल, बिजनेस स्किल आदि के साथ-साथ प्रैक्टिकल ज्ञान भी प्राप्त होता है।

MBA कोर्स का समय 2 से 3 साल  होता है।

B. Tech (Bachelor of Technology)

बीटेक का पूरा नाम बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी होता है यह एक पोस्टग्रेजुएट कोर्स नहीं होता है, बल्कि यह एक अंडरग्रेजुएट कोर्स होता है।

इस कोर्स में, स्टूडेंट्स को अलग - अलग इंजीनियरिंग विषयों में प्रवेश मिलता है, जैसे कि मैकेनिकल, सिविल, कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रॉनिक्स, आदि।

B.Tech कोर्स में Support, Operation, सुरक्षा, रिसोर्स मैनेजमेंट, रिसोर्स प्रोजेक्ट्स के लिए मल्टीपल कम्प्यूटर एप्लिकेशन के अलग - अलग महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में पढ़ाया जाता है।

B.Tech कोर्स का समय 4 साल का होता है आप BSC के बाद B.Tech कोर्स कर सकते है और सॉफ्टवेयर इंजीनियर, कंप्‍यूटर हार्डवेयर इंजीनियर बन सकते है।

LLB (Bachelor of Law)

एलएलबी यानि बैचलर ऑफ लॉ की डिग्री होती है यह तीन या पांच साल का लॉ कोर्स है जिसमें स्टूडेंट्स को कानून से संबंधित कई विषयों की पढ़ाई करनी होती है।

एलएलबी कोर्स में कानून के इतिहास, भारतीय संविधान, दंड संहिता, नागरिक कानून, दंड प्रक्रिया संहिता आदि विषयों को सिखाया जाता है।

एलएलबी कोर्स को पूरा करने के बाद स्टूडेंट्स अदालतों में वकील बन सकते हैं या कॉर्पोरेट सेक्टर में लीगल एडवाइजर की भूमिका निभा सकते हैं।

Bachelor of Education (BEd)

BEd यानि बैचलर ऑफ एजुकेशन डिग्री होती है यह डिग्री शिक्षक बनने के लिए ली जाती है। 

BEd कोर्स दो साल का होता है इसमें शिक्षण के अलग - अलग पहलुओं पर जानकारी दी जाती है जैसे- शिक्षा का इतिहास, शिक्षा में नई तकनीकें, पढ़ाने के तरीके, बच्चों के विकास पर ध्यान देना आदि। 

BEd कोर्स करने के बाद आप प्राथमिक या माध्यमिक लेवल पर टीचर बन सकता है कुछ व्यक्ति प्राइवेट स्कूलों में भी टीचर के रूप में काम करते हैं।

B.Ed डिग्री शिक्षक बनने के लिए जरुरी होती है आप B.SC के बाद B.Ed कोर्स करने के बाद टीचर के रूप में काम कर सकते है।

Post Graduation Diploma in Management (PGDM)

पोस्ट ग्रैजुएशन डिप्लोमा इन मैनेजमेंट PGDM एक पोस्ट ग्रैजुएशन कोर्स होता है जो मैनेजमेंट के क्षेत्र में योग्यता प्रदान करता है।

यह एक से दो साल का कोर्स होता है जिसमें कई विषयों पर जानकारी दी जाती है जैसे- फाइनेंस, सेल्स और मार्केटिंग, ऑपरेशन, human रिसोर्स मैनेजमेंट आदि।

PGDM करने के बाद व्यक्ति अलग - अलग कंपनियों में मैनेजर के रूप में काम कर सकता है कुछ लोग अपना बिजनेस भी शुरू करते हैं।

यह कोर्स MBA की तरह ही होता है लेकिन इसमें डिग्री की जगह डिप्लोमा मिलता है PGDM आजकल बहुत से संस्थानों में पढ़ाया जाता है।

Masters in Information Management (MIM)

 मास्टर्स इन इन्फॉर्मेशन मैनेजमेंट MIM एक पोस्ट ग्रैजुएशन कोर्स है जो इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी और मैनेजमेंट के क्षेत्र में योग्यता प्रदान करता है। 

यह एक से दो साल का कोर्स होता है जिसमें डेटा एनालिसिस, डिजिटल मार्केटिंग, साइबर सिक्योरिटी, बिग डेटा एनालिसिस आदि विषयों की जानकारी दी जाती है।

MIM करने के बाद व्यक्ति कंपनियों में डेटा एनालिस्ट, आईटी प्रोजेक्ट मैनेजर या मार्केटिंग मैनेजर के रूप में काम कर सकता है। 

यह कोर्स आईटी और बिजनेस दोनों क्षेत्रों से जुड़ा हुआ है इसलिए MIM करने वाले लोगों की डिमांड बाजार में बहुत है।

Bsc के बाद मेडिकल कोर्स

BSc के बाद मेडिकल कोर्स कौन-कौन से हैं?

BSc करने के बाद अगर कोई व्यक्ति डॉक्टर बनना चाहता है तो उसके पास कुछ ऑप्शन होते हैं-

1. MBBS - यह 5.5 साल का डिग्री कोर्स है जो आपको डॉक्टर बनाता है इसमें चार साल की पढ़ाई के बाद 1 साल का इंटर्नशिप होता है। 

2. BDS - यह डेंटिस्ट्री कोर्स है जो 5 साल का होता है इससे आप डेंटिस्ट बन सकते हैं।

3. BHMS और BUMS - ये होम्योपैथी और यूनानी दवा के कोर्स हैं जो 5.5 साल के होते हैं।

4. BPT और BOT - फिजियोथेरेपिस्ट और ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट बनने के लिए 4 साल के BPT और BOT कोर्स हैं।

5. BPharm - BPharm यानि बैचलर ऑफ फार्मेसी है यह 4 वर्षीय डिग्री कोर्स है जिसमें फार्मेसी से संबंधित विषयों की पढ़ाई होती है। 

BPharm कोर्स करने वाले व्यक्ति को दवाओं से जुड़े काम सीखने का मौका मिलता है यह कोर्स पूरा करने के बाद आप फार्मेसिस्ट बन सकते है। 

फार्मेसिस्ट दवाओं के निर्माण, टेस्ट, स्टोरेज, वितरण और उपयोग से जुड़ी गतिविधियों में सहायता करता है आप दवा कंपनियों या अस्पतालों में काम कर सकते है BPharm कोर्स करके आप फार्मेसी इंडस्ट्री में सफल रूप से काम कर सकते है।

6. BAMS - BAMS यानि बैचलर इन आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी है यह 5 वर्षीय डिग्री कोर्स है जो आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से संबंधित है।

BAMS कोर्स में आयुर्वेदिक दवाओं, चिकित्सा विधियों और सर्जिकल-चिकित्सा से संबंधित विषयों की पढ़ाई होती है इस कोर्स को पूरा करने वाला व्यक्ति आयुर्वेदिक डॉक्टर बन सकता है।

आयुर्वेदिक डॉक्टर प्राकृतिक और जड़ी-बूटियों से बनी दवाओं का उपयोग कर रोगियों का इलाज करता है वह अस्पताल या क्लिनिक में काम कर सकता है BAMS की डिग्री धारक आयुर्वेद पद्धति से स्वास्थ्य सेवा प्रदान कर सकता है।

इन कोर्सेज के लिए NEET UG एग्जाम क्लियर करना जरूरी होता है BSc के बाद ये कोर्स आपको डॉक्टर बनने का सबसे आसान रास्ता देते हैं।

Bsc के बाद Job ऑप्शन

बीएससी कोर्स को पूरा करने के बाद छात्रों के पास जॉब पाने के कई ऑप्शन होते हैं कुछ मुख्य ऑप्शन आपको यहाँ निचे दिए गए हैं:

B.sc के बाद सरकारी नौकरी

बीएससी छात्र अलग - अलग राज्य सरकारों और केंद्र सरकार में असिस्टेंट ऑफिसर या जेई, क्लर्क, स्टेनो, लाइब्रेरी असिस्टेंट, भारतीय रेलवे में असिस्टेंट ऑफिसर / जेई आदि पदों के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

B.sc के बाद आप बैंकों में क्लर्क, प्रोबेशनरी ऑफिसर, असिस्टेंट आदि पदों के लिए अप्लाई कर सकते हैं
B.sc के बाद आपके पास RRB में टिकट कलेक्टर, स्टेशन सुपरवाइजर, रेलवे क्लर्क आदि पदों के लिए मौका है।
आप पोस्टल असिस्टेंट, डाक सेवक आदि जॉब्स के लिए अप्लाई कर सकते है 

आप भारतीय सेना, नौसेना और वायुसेना में अफसर बन सकते है इनके अलावा UPSC, SSC जैसी एग्जाम के जरिए भी अच्छी सरकारी नौकरियाँ हासिल की जा सकती हैं

B.sc के बाद प्राइवेट क्षेत्र में नौकरी

बीएससी छात्र बैंक, बीमा कंपनियों, BPO कंपनियों में कस्टमर सपोर्ट एग्जीक्यूटिव आदि पदों के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

B.sc के बाद आप कॉल सेंटर कस्टमर सर्विस एक्जीक्यूटिव, रिलेशनशिप मैनेजर आदि पोस्ट के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

B.sc के बाद आप बैंकिंग फील्ड बैंक में कस्टमर सर्विस, लोन प्रोसेसिंग जॉब्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

B.sc के बाद पैथोलॉजी लैब असिस्टेंट का काम किया जा सकता है।

खाद्य उद्योग में ट्रेनी या असिस्टेंट के तौर पर काम कर सकते है इसकेअलावा आपके पास  IT कंपनियों में भी जॉब के अच्छे मौके हैं इन जॉब्स में अच्छी सैलरी और ग्रोथ भी मिलती है।

B.sc के बाद टीचिंग क्षेत्र में नौकरी

बीएससी छात्र स्कूलों और कॉलेजों में प्रवक्ता या टीचर के रूप में काम कर सकते हैं। 

B.sc के बाद रिसर्च क्षेत्र में नौकरी

बीएससी छात्र कई रिसर्च संस्थानों में रिसर्च असिस्टेंट के रूप में काम कर सकते हैं।

Bsc के बाद बी.एड कर सकते हैं ?

अगर अपने अपना बीएससी कोर्स कम्पलीट कर लिया है और अब आप B.sc के बाद B.ed करना चाहते है तो आप यह बिल्कुल कर सकते है। 

Bsc के बाद आप बीएड 2 साल में कर सकते है कई स्थानों पर आपको बीएड फर्स्ट ईयर और सेकंड ईयर यानि दो भागो में करना होता है और कई स्थानों पर आप यह सेमेस्टर वाइज कर सकते है यानि कि दो सालो में आपको चार सेमेस्टर करने होंगे।

हर राज्य में B.Ed के लिए आवेदन पत्र निकलते हैं और प्रवेश परीक्षा (एंट्रेंस एग्जाम) होती है आप यह परीक्षा दे सकते हैं और बीएड के लिए कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं।

आपको बतादें कि कई कॉलेजो में आप एंट्रेंस एग्जाम दिए बिना डायरेक्ट एड्मिशन ले सकते है।

B.SC के बाद बीएड करने के क्या फायदे है ?

  • बीएड करके आप टीचर बन सकते हैं और स्कूल/कॉलेज में अपनी सर्विस दे सकते हैं
  • शिक्षक भर्ती में बीएड धारकों को प्राथमिकता मिलती है इसके लिए यह एक अच्छा क्वालिफिकेशन है। 
  • बीएड करने से आपके कम्युनिकेशन और टीचिंग स्किल में सुधार होता है।
  • यह भविष्य में एमएड या एमफिल के लिए ये एक अच्छा आधार है।
  • NGO सेक्टर में भी बीएड डिग्री फायदेमंद साबित हो सकती है।
  • अगर आप शिक्षण क्षेत्र से जुड़ना चाहते हैं तो बीएससी के बाद 2 साल का बीएड कोर्स एक अच्छा ऑप्शन है और इससे आपके करियर को भी बूस्ट मिलेगा।

बीएससी के बाद M.A. कर सकते हैं ?

अगर अपने अपना बीएससी कोर्स पूरा कर लिया है अब आप बीएससी के बाद एमए करना चाहते है बीएससी पास करने के बाद आप मास्टर ऑफ आर्ट्स यानी एमए कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। 

एमए कोर्स 2 साल का होता है आप अपनी बीएससी की डिग्री में लिए गए सब्जेक्ट के आधार पर ही एमए कर सकते हैं।

जैसे- अगर आपने बीएससी इंग्लिश में की है तो आप एमए इंग्लिश में कर सकते हैं।

एमए करने से आपकी पढ़ाई में और गहराई आती है और यह भविष्य में आपके रिसर्च व अकादमिक क्षेत्र में काम आता है।

M.A के बाद आप टीचर बन सकते है इसलिए बीएससी के बाद एमए अच्छा ऑप्शन हो सकता है।

B.sc के बाद क्या करे वीडियो 👇


बीएससी के बाद कौनसा कोर्स करे टिप्स

यह आपके रुचि और लक्ष्यों पर depend करता है अगर आप उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप एमएससी, एमबीए, एमसीए या पीएचडी कर सकते हैं अगर आप सरकारी नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप एसएससी, बैंकिंग परीक्षा या रेलवे परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं।

अगर आप प्राइवेट क्षेत्र में नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप आईटी क्षेत्र, फार्मास्युटिकल क्षेत्र या शिक्षण क्षेत्र में नौकरी ढूंढ सकते हैं

अगर आप स्वरोजगार करना चाहते हैं, तो आप अपना खुद का बिजनेस शुरू कर सकते हैं या फ्रीलांसर के रूप में काम कर सकते हैं।

यह important है कि आप अपनी रुचि और लक्ष्यों के आधार पर अपना करियर ऑप्शन चुनें।

यहाँ कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं जिन पर आपको विचार करना चाहिए:

  • आपकी रुचि क्या है?
  • आपके लक्ष्य क्या हैं?
  • आपके कौशल क्या हैं?
  • आपके योग्यताएं क्या हैं?
  • आपके पास कितना पैसा है?
इन सभी बातों पर विचार करने के बाद, आप एक ऐसा करियर ऑप्शन चुन सकते हैं जो आपके लिए सबसे अच्छा हो।

निष्कर्ष।

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने आपको BSC के बाद कौनसा Course करे इसके बारे में पूरी जानकारी दी और बीएससी करने के फायदे, बीएससी के बाद सरकारी नौकरी और प्राइवेट नौकरी के बारे में बात की

आशा करते है इस आर्टिकल से आपको बीएससी के बाद क्या करे इसके बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी 

अगर B.sc से सम्बंधित आपके मन में और कोई सवाल है तो हमे कमेंट करके बताएं हम आपके सवाल का जल्द ही उत्तर देंगे।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.